26.6.22

June 26, 2022

Embroidery jari Thread 🧵 kasab zari cumpter work dizian

 Hello everyone all Embroidery jari work dizian jari available in my company name is shree nakoda jari and Monika jari surat others product manufacturers all embroidery thread jari 180dinner 75dinner available and dilewery available case on pay google pay bank account number your adress all colours send me coriyar dilevery available flz what's app msg phone call and other online msg Facebook Instagram Twitter Pinterest NET banking flz order and what's app my company mobile number  8160257561 confirm order giv me 

India and other countries dilevery available best quality best varieties best jari  full vet and ful lenth super embroidery jari cumpter dizian work saree dizian work jari available manufacturers hub Indian machion dhom Indian idol market lo price 🔝 qwality super embroidery thread jari available

My company shree nakoda jari Monika jari surat gujrat India embroidery jari available thread 🧵 kasab zari cumpter dizian work saree dizian work best quality and kashab jari available less work available ressam polister yarn viscose yarn jari available company mobile number 8160257561 all embroidery 🪡 BRT yarn gold jari silver zari resham embroidery thread jari available nailon yarn viscose yarn kasab roll available lahenga kurti payjama kurta choli salwar top legi pent blouse dizian work jari available

Flz order my company shree nakoda jari

Monika jari surat gujrat India embroidery thread jari available

Order what's app number 8160257561

All colours available

Gold anmol silver zari resham embroidery jari green red Coco antic gold anmol silver zari polister yarn viscose yarn kasab zari cumpter dizian work jari available 

30.3.22

March 30, 2022

Kachua aur khargosh ki kahani ( ghmendi khargosh Chatur kachua )

हैलो प्रिय मित्रों आज आपके सामने ऐसी Kachua aur khargosh ki kahani ( ghmendi khargosh Chatur kachua )story लेकर आया हूं जो शायद मेरे से पहले आपको किसी ने सुनाई होगी या आप पहली दूसरी कक्षाओं में आपने study की होगी या बड़े बुजुर्गों ने सुनाई होगी। दोस्तों मेरी कहानी का शीर्षक है कि आप अपने जीवन में कोई भी लक्ष्य कठिन या ऐसा मत समझो कि मैं वो मुकाम हासिल नहीं कर सकता मैं कमजोर हूं मेरे मैं ताकत नहीं हैं मुझमें दिमाग नहीं हैं मैं कमजोर हूं तो आज अभी से कहानी पड़कर मुझे पूरा विश्वास ही नहीं बल्कि यकीन भी है की आपके मन मे जो डर छिपकर बैठ गया हैं वो आज भाग जायेगा।

दूसरी बात मेरी कहानी में जो दूसरा पहलू बताया गया है वो भी आपकी जिंदगी को आपके लक्ष्य को सही सलामत रखे उसके बारे मे विस्तार से मेने जानकारी दी गई है की चाहे हम शक्तिशाली ताकतवर या हमारा bussniss कितना भी बड़ा क्यों ना हो जाए हमे कभी भी अपने आप पर घमंड नहीं करना चाहिए दोस्तों bahut mehnat se Mene पूरी कहानी आपके लिए बनाई है आप ध्यान से पढ़ें और अपने दिमाग में उतारे हां facebook twitter youtube websites पर आपको ऐसी बहुत कहानी मिल जाएगी लेकिन उसमे और मेरी कहानी में दिन रात का फर्क है। Kachua aur khargosh ki kahani ( ghmendi khargosh Chatur kachua )

पुराने जमाने की बात है एक बहुत बड़ा जंगल था उस जंगल में एक खरगोश और एक कछुआ रहता था और भी बहुत सारे जानवर रहते थे khargosh bahut Chatur aur ghamandi tha vah apne aap bahut hi ghamand Karta tha isiliye vah aur dusre janvaron per hansta tha खरगोश बहुत तेज भागता था इसलिए उसको अपने तेज रफ्तार का बहुत घमंड हो रहा था वो मन ही मन बहुत खुश हुआ करता की इस जंगल में मेरे से मुकाबला कोई नहीं कर सकता है ।

 एक समय की बात है जब खरगोश जंगल में घूम रहा था तो उसकी नजर एक कछुआ पर पड़ी और वो उसके पास जाकर उसको देखने लगा और जोर जोर से हंसने लगा की तुम बहुत धीरे धीरे चलते हो तुम मेरे जैसे तेज रफ्तार से दौड़ नही सकते हो। एक मुझे देखो मे इतना तेज speed se भागता हूं कि इस वन में मेरे से कोई जीत हासिल नहीं कर सकता khargosh की पुरी बातें kachua ताव से सुन रहा था और फिर धीरे से बोला कि देख मेरे भाई तुम अपनी रफ्तार पर इतना भरोसा घमंड मत करो ज्यादा उछलना सही नहीं है। इस पर खरगोश कछुआ का मजाक उड़ाते हुए बोला की ओह मेरे छोटे से भाई तू मुझे क्या सीख दे रहा है इतना ही है तो मुझे मुकाबला कर के देख तुझे भी मालूम पड़ जायेगा कि मैं क्या चीज हूं फिर कछुआ बोला रहने दे भाई तेरा ghamand चकनाचूर हो जायेगा और सारे जंगल के जानवर तेरे पर हंसेंगे मेरा तो कुछ नहीं जाने वाला हैं तेरी पोल खुल जाएंगी इस बात पर khargosh को जोर से हंसी आई और बोला ऐसा हैं तो हो जाए मुकाबला फिर दूध का दूध और पानी का पानी हो जायेगा सब के सामने। 

अब दोनों के बीच बात पक्की हो गई की सब के सामने जो भी वो दुर एक बहुत बड़ा पेड़ हैं उसके पहले जो चक्कर लगा कर आयेगा वो ही विजेता कहलाएगा । अब जैसे ही दौड़ चालू हुवा khargosh तो बहुत तेज स्पीड से आगे निकल गया था लेकिन कछुआ बेचारा छोटा जानवर था तो वो धीरे धीरे चलने के कारण खरगोश से काफी पीछे रहे गया। खरगोश अपने पूरे जोश के साथ दौड़ता हुआ जा रहा था तबी पीछे मुड़कर देखा तो कछुआ तो दूर दूर तक कई नजर भी नहीं आ रहा था यह सब देख कर खरगोश ने सोचा क्यूं ना कुछ देर के लिए आराम कर लेते हैं। कछुआ अपने नजदीक आयेगा तो फिर तेज भाग कर उसको पीछे छोड़ दूंगा और और बाजी तो मैं जीत ही लूंगा ऐसे भी आगे जाकर करना ही है मुझे ये सोचते हुए खरगोश पेड़ की ठंडी छाए मैं आराम से सो गया। खरगोश नींद में सपने देखने लग गया और इधर कछुआ अपनी चाल से चलता रहा और शाम होने से पहले ही अपना लक्ष्य हासिल कर के वाफिस आ गया और आराम से सो गया की कब खरगोश आयेगा। 

घमंडी खरगोश की एक दम नींद खुली तो देखा कि कछुआ तो आराम कर रहा है फिर खरगोश ने कछुआ से बोला कि तुमने चक्कर पूरा नहीं लगाया तुमने धोखा किया मेरे साथ। खरगोश की ऐसी बातें सुनकर जंगल के सारे जानवर एक साथ बोले की जीत कछुआ की ही हुई हैं और जोर जोर से सबने एक साथ कछुआ की जय बोली और विजय माला पहेनाकर जोरदार स्वागत किया खरगोश बहुत शर्मिंदा हुवा फिर बोला मैं कभी किसी की मजाक नहीं उड़ाऊंगा।

Kachua aur khargosh ki kahani ( ghmendi khargosh Chatur kachua इस कहानी से सीख लेनी चाहिए कि हमे अपने से कमजोर पर कभी भी हंसना नहीं चाहिए सदा सबको बराबर समझना चाहिए दोस्तों आपको मेरी यह post कैसी लगी मुझे जरूर बताएं और अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ शेयर जरूर करें

29.3.22

March 29, 2022

गर्मी के मौसम में क्या क्या खाएं! क्या क्या ना खाएं!

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से स्वागत है आप सभी का मेरे ब्लॉग पर। भारत वो देश है जहां साल में बहुत प्रकार की ऋतुओं आती है जैसे सर्दी गर्मी बारिश और इन मौसम में हम लोगों को अपना अपने स्वास्थ्य का बहुत ध्यान रखना जरूरी होता है इसलिए आज आपके लिए मैं लेकर आया हू की गर्मी के मौसम में क्या क्या खाएं और क्या क्या नहीं खाएं इस post को आप अंत तक जरूर पढ़ें

 गर्मी से बचने के लिए इन आहारों का सेवन करें 

ऋतुओं के हिसाब से आहार में बदलाव और गर्मी से बचाव के उपायः बाहर गर्मी बहुत तेज हो रही है और सभी को अपने आहार में बदलाव कर देना चाहिए। मैं सामान्य कुछ चीजें बता रहा हूं जिसके प्रयोग से आप बाहर की 'लु' से बहुत ज्यादा प्रचंड गर्मी से बच सकते हैं।    

गर्मी के मौसम में लोगों को खान-पान में खास सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। क्योंकि इस मौसम में लोगों को डायरिया, कब्ज,अपच के साथ-साथ पेट से जुड़ी कई समस्याएं होती है। बता दें कि इस मौसम में तापमान में गर्मी होने के पाचनतंत्र धीरे काम करता है। इसलिए गर्मियों में ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने की सलाह दी जाती है जिनमे पानी, फाइबर, प्रोबायोटिक, एंटीऑक्सिडेंट्स, खनिज जैसे तत्व हो। 

  सबसे ज्यादा आप टमाटर का प्रयोग प्रारंभ कर दीजिए, इसके साथ प्याज है, लौकी है, खीरा है, आम है, कच्चा आम है, नारियल पानी है, तरबूज है, खरबूजा है इन सबको अपनी डाइट में ले आइए। जिनमें पानी की मात्रा बहुत ज्यादा होती होती है, जो लिक्विड फॉर्म में होते हैं जैसे टमाटर, 'लु' से बचाता है।


      जितने भी प्रकार की स्किन डिसीज होती है, जो गर्मी में खासतौर पर घमौरियां निकल जाना, पिंपल्स निकल जाना, चेहरे में झाइयां आ जाना उन सब को दूर कर देता है। आप टमाटर को काटकर उसे अपने चेहरे पर रगड़ सकते। पैरो के तलवों में रगड़ सकते हैं जिससे कि जलन पैदा ना हो।


       सेम कंडीशन 'खीरे' पर लागू होती हैं। खीरे को भी आप जूस के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। आप स्किन पर लगा सकते हैं और स्किन को चमकदार रख सकते हैं। 'लौकी' तो अद्भुत है। आयुर्वेद में लौकी को जितना उपयोगी बताया गया है, उतना इस समय गर्मियों में कोई भी नहीं है। 'प्याज' भी उसके बराबर महत्व रखता है किंतु 'लौकी' उससे भी ज्यादा महत्व है। इसलिए आप लौकी का नियमित रूप से सेवन करिए। 


 यदि शरीर में जलन पैदा हो रही है तो आप जलन को रोकने के लिए लौकी को काटकर अपने पैर के तलवों में लगा सकते हैं, जिससे कि आपको जलन नहीं हो। चेहरे पर आप उसे लगा सकते हैं। पैरों में रगड़ने के साथ में चेहरे पर भी उसका मास्क लगाकर या फिर उसका लेप लगाकर आप अच्छे से यदि लौकी को लगाकर रखते हैं तो शरीर में झाइयां पैदा नहीं होती, चेहरे पर चमक बनी हुई रहती है।

  आप बाजार में उपलब्ध 'बेल का जूस' पी सकते हैं। बल्कि बेल की गिरो को भी खा सकते हैं। इनका प्रयोग करने से आपको 'डाइजेस्ट' से संबंध समस्या नहीं होगी। यदि डाइजेशन से संबंध समस्या नहीं पैदा हो रही है। जिससें कि आपके शरीर जितने भी तत्व  है, वह आपके शरीर से बाहर नहीं निकलेंगे आपको डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होगी और आप स्वस्थ रहेंगे। अन्यथा आपको कमजोरी महसूस होने लग जाएगी, बहुत ज्यादा नींद आने लग जाएगी, आलस्य प्रमाद जैसी समस्या पैदा हो जाती है।

 

 कच्चे आम का पन्ना बनाइए। कच्चे आम का पन्ना जरूर पिए इस समय  जो कि आपके कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम के लिए बहुत ही उपयोगी होता है और बाहर के गर्मी से तो हमें बचाता ही है। आप उसे टेस्टी बना सकते हैं, उसमें पुदीना मिला सकते हैं, आप उसमें नींबू मिला सकते हैं जिससे कि उसका स्वाद और ज्यादा बढ़ जाता है।


नारियल पानी आप जरूर पीजिए, इस समय यदि आप नारियल पानी अगर पीते हैं तो आपके स्किन में ग्लो आ जाता है और आपके शरीर में डिहाइड्रेशन की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाती है।

  

 तरबूज और खरबूजे का भरपूर सेवन करें। आप तरबूज यदि नहीं खा पा रहे हैं इस समय तो आप सोचिए कि आप ने धरती पर भगवान का बनाया हुआ एक अमूल्य फल खो दिया है, जिसका आप स्वाद नहीं चख पा रहे हैं। इसलिए तरबूज और खरबूजे का जो मीठा स्वाद है आप उसे जरूर सेवन करें। आप उसका नियमित रूप से उपयोग करते हैं तो आपके शरीर में किसी भी प्रकार की गर्मी का निजात तत्व पैदा नहीं होगा। आपको किसी भी प्रकार के रोग पैदा नहीं होंगे।

पेट से जुड़ी इन परेशानियों का समय पर इलाज न हो तो मुश्किलें और बढ़ जाती हैं। वहीं खान-पान और कुछ चीजों का खास ख्याल रखें तो आप बिना दवा के इन परेशानियों को एक दिन में ठीक कर सकते हैं।

डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पिएं ओआरएस का घोल

उल्टी या फिर दस्त होने की वजह से शरीर में पानी की कमी हो सकती है। ऐसी स्थिति में सबसे पहले ओआरएस का घोल पिएं। यह हर मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध है, जहां आप आसानी से खरीद सकते हैं।

ओआरएस का घोल आप चाहे तो घर पर भी तैयार कर सकते हैं। इसके लिए नमक और थोड़ा चिनी का इस्तेमाल कर तैयार कर सकते हैं। यह शरीर में  इलेक्ट्रोलाइट्स के स्तर को बनाए रखते हैं, जिससे शरीर में डिहाइड्रेशन नहीं होता।

इन आहार का करें सेवन

डायरिया या फिर पेट से जुड़ी समस्याएं होने लगे तो अपने डायट में तुरंत बदलाव करें। इसके साथ कुछ ऐसे आहार का सवन करें, जिससे पेट की गड़बड़ी ठीक हो जाए। वहीं डायरिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए इन आहारों का सेवन करें।

चावल- डायरिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए सफेद चावल का सेवन करना चाहिए। चावल में कार्बोहाइड्रेट अधिक होता है और प्रोटीन कम, ऐसे में इसे पचाना आसान है।

केला- दस्त को कंट्रोल करने के लिए केले का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। इसके साथ ही यह पेट के लिए अच्छा होता है।

आलू- उबले हुए आलू का सेवन करें, इसमें कार्ब्स अच्छी मात्रा में पायी जाती है।

फल- फल में अंगूर, अनार, लीची, संतरा, मौसमी, नींबू आदि जैसी चीजों का सेवन करें।

प्रोबायोटिक्स फूड्स- दस्त, डायरिया या फिर गैस जैसी समस्या से बचने के लिए प्रोबायोटिक्स फूड्स का सेवन करें। दही, छाछ आदि जैसी प्रोबायोटिक्स फूड्स में बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जो पाचन को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करते हैं। यह आपकी आंतों में जाकर हेल्दी बैक्टीरिया को बढ़ाने में काम करते हैं, जिससे पेट से जुड़ी समस्या से आराम मिल जाता है।

: गुड़ और नींबू से बने इस हेल्दी ड्रिंक से करें वजन कम, जानें इसके फायदे और बनाने का तरीका

अगर आपको भी है तकिया लगाकर सोने की आदत, तो जान लें इसके फायदे और नुकसान

इन बातों का रखें खास ख्याल

डायरिया, गैस, अपच इत्यादी समस्याओं में दूध की चाय, घी, बटर, तेल जैसी चीजों का सेवन न करें।

पेट से जुड़ी परेशानियों को ठीक करने के लिए जितना हो सकें उतना आराम करें। 

ऐसी स्थिति में शराब, सिगरेट जैसी चीजों से दूरी बनाकर रखें।पेट में दर्द, बार-बार उल्टी या फिर दस्त होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

मुझे पूरा विश्वास है कि आपको मेरी पोस्ट बहुत पसंद आई होगी और इसे आपको फायदा जरूर होगा आप पोस्ट को शेयर जरूर करें

5.3.22

March 05, 2022

ADS LIMIT GOOGLE ADSENSE SE KAISE REMOVE KARE_HATAyE

 Hallo दोस्तों बहुत दिनों से गूगल AdSense ने कुछ adsense account publisar पर ad limit कर दिया है जिसके कारण से बहुत सारे blogger को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और उनकी erning ना बराबर हो रही है ADS LIMIT Google AdSense se kaise remove kare_hatayen सभी ब्लॉगर के मन में यह ही बात चुबती होगी की adsense ने ऐसा क्यों और किसलिए ऐसा किया जब मैने बहुत सारी website और ब्लॉग के कॉमेंट बॉक्स ऐसे सवाल देखे तो आज मैंने यह पोस्ट के माध्यम से आपको अवगत कराना चाहता हूं की क्या जरूरत थी google adsense को की उनको ad लिमिट करना पड़ा मैंने इस पोस्ट मैं विस्तार से पूरी जानकारी दी है आप इसे अंत तक जरूर पढ़ें

Adsense ad limit esliy लगाई की बहुत सारे ब्लॉगर फेक ट्रैफिक ला रहे हैं जो adsense पॉलिसी का पालन नहीं करती है। adsense चाहता है की जो भी ब्लॉगर हैं वो असली ट्रैफिक जैसे google orginic se यूजर आए । ADS LIMIT Google AdSense se kaise remove kare_hatayen इसके बहुत सारे कारण है उसको आप सही तरीके से काम करोगे तो आपकी site se ad limit remove ho jayega wo es प्रकार है।

700-800 शब्द डेली एक post अपने ब्लॉग पर कम से कम लिखना शुरू करना होगा ऐसा आपको एक महीने तक लगातार अपडेट post share करना पड़ेगा अपने social platfarm जैसे facebook tvitet whatsaap इन सब पर अपनी पोस्ट को बिल्कुल भी शेयर नहीं करना हैं अपनी site ka link भी कोई दूसरी site ya वेबसाइट से link नही करना होगा। आजकल एक नया trend चल रहा है की blogger अपनी साइट को paisa देकर traffic खरीद करते हैं ऐसा भूल कर भी ब्लॉगर को नही करना चाहिए क्यों की google adsense को सब मालूम पड़ जाता है की कौनसी traffic फेक अकाउंट से आई और कौनसी रीयल है esliy भी आपकी site par ad limit ho सकती हैं।

New ब्लॉगर जल्दी पैसा कमाने के चक्कर में अपनी साइट पर बहुत सारे ऐसे हतखंडे अपनाते हैं जो adsense policy के विपरीत होती हैं। और उनका खामयाजा उनको ad limit se भुगतना पड़ता है ADS LIMIT Google AdSense se kaise remove kare_hatayen ad limit अगर आपकी site पर लग गया है तो aap apne adsense account मैं auto ad चालू भी कर सकते हैं।

जिसने अभी ब्लॉगिंग मैं कदम रखा है उन लोगों को खासकर ध्यान रखना चाहिए जितना ham सोचते हैं उतना सरल नहीं है blogging करना। बहुत कठिन मेहनत करना पड़ता है। आपको एक खास बात बताना चाहता हूं कि अगर आप अपनी site यानी blog par ad limit se बचना चाहते हैं तो जो मैने ऊपर bathen बताई है उस पर अमल करना ही होगा। शुरुवात मैं आपको कठिनाई होगी लेकिन सब्र करोगे तो फल bahut मीठा प्राप्त होगा। ADS LIMIT Google AdSense se kaise remove kare_hatayen

Aap logon ko meri post kaisi lagi muje comment box jarur batana apne dosthon aur risthedaron ke sath apne social account par bhi jarur share karna ।

26.2.22

February 26, 2022

मेहनत के आगे जीत_एक चतुर कौवा की लघु कथा

 दोस्तों आज मैं आपको एक चतुर कौवा की लघु कथा बताने जा रहा हूं। कहते हैं ना की जो मेहनत करेगा और जो हार नहीं मानेगा उसकी जीत कोई नहीं रोक सकता वो एक दिन विजय जरूर प्राप्त करेगा इसी टॉपिक पर जो आज की मेरी पोस्ट की स्टोरी है वो इसी पर केंद्रित है की कैसे बहुत ही मुश्किल से मुश्किल काम को अपनी हिम्मत और बहादुरी से अपना मुकाम हासिल किया। इसलिए आप मेरी मेहनत के आगे जीत_एक चतुर कौवा की लघु कथा पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े 

बहुत ही पुराने जमाने की बात है कि जंगल में एक कौवा रहता था एक बार गर्मियों के समय में उसे बहुत जोर से प्यास लगी लेकिन मई जून का महीना होने के कारण तालाब नहर झरना सब सूख गए थे उनमें पानी बिल्कल  नहीं था दूर दूर तक कई पानी नजर नहीं आ रहा था इसके कारण उसका गला सुखा जा रहा था और वो बहुत दुःखी हो रहा था कि जंगल में पानी नहीं मिला तो आज वो अपनी जान गंवा चुकेगा ।

फिर उसने अपनी हिम्मत नहीं हारी और पानी की तलाश में निकल गया बहुत देर खोजने की बाद उसे जंगल से काफी दूर उसे एक खेत में मटका दिखाई दिया और वो मन ही मन जबरदस्त खुश होता हैं उसे मालूम पड़ गया की उस मटके में पानी जरूर मिल जायेगा और मैं अपनी प्यास बुझा लूंगा यह सोचते हुए वो उस मटका ( मिट्टी का गड़ा) के पास पहुंच गया वहा जाकर  मटके के अंदर देखा तो पता चला कि उसमें पानी बहुत कम था यानी उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुंच पा रही थी इसलिए अब वो बहुत दुःखी हो गया और सोचने लगा की आज पानी नहीं मिलेगा। अब करू तो क्या करू।

अब कौवा बहुत परेशान हो गया और इधर उधर देखने लगा फिर उसे मटके से कुछ ही दूरी पर कंकड़ पत्थर दिखाई दिए इनको देख कर कौवा के दिमाग में एक तरकीब सोची और उसने छोटे छोटे कंकड़ पत्थर उस पानी के मटके के अंदर डालना शुरू कर दिया ऐसा वो तब तक करता रहा जबतक पानी में उसकी चोंच पहुंच पाती फिर कंकड़ पत्थर से धीरे धीरे पानी उपर आने लगा और अब कौवा अपनी चोंच से आराम से पानी पिया और अपनी प्यास बुझाई और वापिस अपने जंगल की और चला गया।

दोस्तों इस कहानी से हमे बहुत सीख मिलती हैं की हमको कभी भी किसी भी काम को मुश्किल नही समझना चाहिए हमारे में बहुत ताकत है दिमाग हैं इसलिए हमें मुश्किल से मुश्किल काम से घबराना नहीं चाहिए सोचो अगर वो कौवा हार मान कर चला जाता तो अपनी जिंदगी से हाथ धो बैठता इसलिए हमें भी अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए पूरी ताकत लगा देना चाहिए ।मेहनत के आगे जीत_एक चतुर कोवा की लघु कथा आप सभी को मेरी पोस्ट कैसी लगी आप मुझे कॉमेंट बॉक्स में जरूर बताना अगर आपको अच्छी लगी तो आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को जरूर फेसबुक व्हाट्स ऐप पर शेयर करना।

24.4.21

April 24, 2021

BSTC COURSE कैसे करें बीएसटीसी क्यों जरूरी है

 बीएसटीसी राजस्थान बेसिक स्कूल टीचिंग course होता है और यह कोर्स राजस्थान राज्य में बहुत ज्यादा लोकप्रिय है।primery स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए ये एक आवश्यक course माना गया है 12वीं पास करने के बाद हर स्टूडेंट मे इस कोर्स को लेकर उत्सुकता बहुत बढ़ जाती है। जो भी स्टूडेंट राजस्थान राज्य में teachir बनाना चाहते हैं तो वो बीएसटीसी के बारे में जानकारी लेना जरूर चाहेगा की बीएसटीसी कैसे होती है इसके लिए क्या और कौनसी कौनसी योग्यता होना जरूरी होती हैं। इसी लिए आज हम आपके लिए खासकर इस टॉपिक को ध्यान मैं रखते हुए BSTC COURSE कैसे करें। बीएसटीसी क्या और क्यों जरूरी है इस post मैं आपको पूरी har tarhe से बिल्कुल बारीक और सरल तरीके से बताया गया है मेरी इस पोस्ट को अंत तक read करना ना भूलें।

Har कोई स्टूडेंट 12वीं उत्तीर्ण करने के बाद अपने हिसाब से कोई भी लेवल चुन सकते है क्यों कि अपना carriar बनाने के लिए कई ऑप्शन आपके पास मौजूद रहते हैं यहां पर आपको एक बात की गांठ बांध लेना चाहिए कि जो भी क्षेत्र को चुने आपको उसकी पूरी जानकारी होना भी जरूरी होता है तब आपको अपने मुखाम या अपने लक्ष्य तक पहुंचने में आसानी होगी और आप जल्द ही अपने carriar को सफल बना लेंगे

BSTC क्या है? - बीएसटीसी एक या दो साल का कोर्स होता है जो 12वीं कक्षा के बाद इस कोर्स को किया जाता है राजस्थान में आपको सरकारी स्कूलों में शिक्षक बनाना है तो इस कोर्स को करना बहुत जरूरी होता है इस bstc course मैं विद्यार्थियों को primery कक्षायों को पढ़ान  के लिए ट्रेनिग दी जाती है आपको एक जानकारी देना जरूरी हैं कि इस कोर्स को आप कई विषयों में किया जा सकता है।

Read more post Paralysisसे मुक्ति मात्र सात दिनों में

जो student tiching के fild मै जॉब करना चाहते हैं उनके लिए बीएसटीसी course करना अति आवश्यक होता है अब आपके मन में सवाल उठता होगा की इतनी अच्छी जानकारी मिली लेकिन bstc का मतलब क्या होता है बताया नही तो आपके मन के सवाल का हल करते हैं बीएसटीसी मतलब -Basic school seaching certification कोर्स करने के बाद स्टूडेंट sarkari teacher की भर्ती प्रक्रिया सामिल हो सकता है।

बीएसटीसी कैसे करें? - bstc course करने के लिए bstc enternece exam या bstc प्रवेश परीक्षा पास करनी पड़ती हैं यह परीक्षा har साल आयोजित की जाती है इस परीक्षा को पास करने के बाद ही आप बीएसटीसी कॉलेज में प्रवेश कर सकते हो बीएसटीसी entranee exam har साल फरवरी या मार्च के महीनों मैं किया जाता है बीएसटीसी के लिए क्या क्या योग्यता होना जरूरी है आइए जानते है इसके बारे में-

बीएसटीसी करने के लिए क्या क्या योग्यता होना जरूरी है - यह बात तो हम सब जानते है कि कोई भी परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए कुछ योग्यता निर्धारित की जाती है। उसी तरीके से बीएसटीसी परीक्षा के आवेदन करने के लिए aualification को सामिल किया गया है बीएसटीसी परीक्षा के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त bourd से 12वीं उत्तीर्ण होना जरूरी होता है

Bstc उम्मीदवार राजस्थान राज्य का निवासी और भारतीय नागरिक होना जरूरी होता है bstc जनरल कैंडिडेंट 50% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए एससी/एसटी वर्ग उम्मीदवार 45%अंकों के साथ उत्तीर्ण होना जरूरी है।28 साल से ज्यादा उम्र का अभ्यार्थी bstc में परीक्षा नही दे सकता है तो प्रिय मित्रों BSTC COURSE कैसे करें बीएसटीसी क्यों जरूरी होता है आज की मेरी यह post आपको कैसी लगी आप मुझे जरूर बताएं हमारा यह प्रयास रहेगा की हमारी पोस्ट आपको जरूर पसंद आई होगी दोस्तों इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ whatsaap facebook tviter google instagram पर share जरूर करना अपनी राय comment box मैं जरूर बताएं हम हर समय आपकी सेवा में हाजिर रहेंगे


10.5.20

May 10, 2020

रेगिस्तान का जहाज किसे कहा जाता है

आज हम ऐसे जानवर की बात करेंगे जो भारत में ही नहीं पूरे विश्व में अपनी अलग ही पहचान बनाई है उसी का नाम है ऊंट ( Camel )
रेगिस्तानी इलाकों में और खासकर जहां बहुत ज्यादा गर्मी पड़ती है उस जगह यह सवारी ढोने के काम बहुत आते हैं भारत में ऊंटों की संख्या लगातार घट रही हैं विश्व के 2.4 प्रतिशत ऊंट पाले जाते हैं पूरे हिन्दुस्थान में यहां चार लाख ऊंटों में सबसे ज्यादा 50 प्रतिशत अकेले राजस्थान राज्य में पाले जाते है बाकी पंजाब, हरियाणा, गुजरात, यूपी, और मध्यप्रदेश में पाले जाते हैं भारत में एक कुबड़ वाला और अरब देशों में दो कुबड़ वाला ऊंट पाया जाता हैं आइए अब जानते है की किस कारण से ऊंट को रेगिस्तान का जहाज कहा जाता हैं
ऊंट रेगिस्तान का एक अति महत्वूर्ण एवं उपयोगी पशु है। ऊंट के पैर गद्दीदार होने के कारण रेतीली टीबो में नहीं धसतें है और वो तेज गति से रेगिस्तान में आसानी से दौड़ सकते है। पेड़ों के पते और झाड़ियों को खाकर अपना पेट भर लेता है। मलमूत्र गाढ़ा व चमड़ी मोटी होने के कारण पसीना कम आने से ऊंट को जल की आवश्यकता बहुत कम होती हैं जिसे वो 50 डिग्री तापमान में भी 8-10 दिनों तक बिना पानी पिए आसानी से रहे सकता है इसलिए गरम व शुष्क भागों में ऊंटों को आसानी से पाला जा सकता है यह भारी बोझ ढो सकता है और एक दिन में 45-50 किलोमीटर दूर तक चल सकता है।

ऊंट ( camel ) के होठ मोटे और लम्बे होते हैं। जिससे वह रेगिस्तान में पाए जाने वाले कांटेदार पौधे भी आसानी से खा पाता है। और इसकी लंबी गर्दन की वजह से वो ऊंचे पेड़ों की पत्तियों को भी खा पाता है। इसके पेट और घुटनों पर रबर जैसी त्वचा होती है जिससे वह बैठते समय रेत के संपर्क में आने पर भी इसका बचाव हो सके। यह त्वचा ऊंट के उम्र  5 -6 वर्ष का होने के बाद बनती है। 
 
ऊंट के शरीर के रंग की वजह से भी इसे रेगिस्तान के मौसम में रहने में आसानी होती है। इसके शरीर पर बालों की एक मोटी परत होती है जिससे यह धूप सह लेता है अरब देशों और खासकर जहां रेतीली जगह ज्यादा है वहां ऊंट ज्यादा पाले जाते हैं।

रेगिस्तान में ऊंट की उपयोगिता के कारण ही सैनिक टुकड़ियां सवारी व बोझा ढोने के लिए ऊंट का उपयोग करते हैं। ऊंटों में वर्षों बाद भी मार्ग याद रखने की अदभुत क्षमता होती है रेतीले मरुस्थल में परिवहन के साधन के रूप में ऊंट का कोई विकल्प नहीं है इसलिए ऊंट को रेगिस्तान का जहाज कहा जाता हैं।
ऊंट सवारी करने के अतिरक्त खेतों में हल जोतने, बोझा ढोने, कुवों से पानी निका लने सिंचाई करने, गाड़ी खींचने, बहुत सारे काम में ऊंटों को उपयोग में लाया जाता हैं ऊंट के बालों से रस्सियां, कम्बल, दरिया, व चमड़े से काठी, थैले, तेल रखने की कुपिया और जूतियां बनाई जाती हैं। इसका दूध बहुत आयुर्वेद दवाइयां बनाने में काम आता है और पीने के काम भी बहुत आता है तो दोस्तों यह रेगिस्तान का जहाज किसे कहा जाता है सारी जानकारी अगर आपको मेरी post अच्छी लगी हो तो आप इसे share करें

29.4.20

April 29, 2020

BLOGGER Blog Ko Website Mai Kaise Badale/Design kare Top jankari In Hindi

प्रिय: Visitors आपका एक बार फिर से स्वागत है. Indian First News पर आज में आपको जानकारी दूँगा की जब आप Free Blogger साईट पर अपना Blog तो बना लेते हैं. लेकिन जब आपका ब्लॉग डिजाइन अच्छी तरीके से नहीं होता है तो Traffic भी कम आता है. और दिखने भी सुन्दर नहीं दिखाई देता है जिसे बहुत से नये Blogger Blogging में success नहीं होते हैं. और उनके सपनों पर पानी फिर जाता है इसीलिए मेरी Post में BLOGGER Blog Ko Website Mai Kaise Badale/Design kare Top jankari In Hindi  आपको Blog यह सब जानकारी आपको Read करने को मिलेगी आप मेरी Post को बराबर Follow करें.

BLOG TEMPLATE :

सबसे पहले अपने BLOG के लिए अपनी मनपसंद की TEMPLATE /THEME सलेक्ट कर लेनी चाहिए. अगर आपने अच्छी THEME CHOICE कर लिया है तो आपको बार बार चेंज नहीं करना पड़ेगा TEMPLATE FAST LODDING होना जरूरी है और दिखने में भी सुन्दर होना चाहिए. 

Blog Header :

Blog के header को अच्छे से design करना बहुत जरूरी होता है. Blog का सबसे जरूरी Important part Header ही होता है. visitors की नजर सबसे पहले header पर ही पडती है. और आपका Blog पुरी तरह से website जैसा दिखना चाहिए. 

Website Navigation :

अपनी site पर एक Top quality का navigation एड जरूर करें और वो mobile Responsive होना चाहिए. 

NEXT PREVIOUS POST :

VISITORS सबसे पहले HOME PAGE को OPEN करते हैं. इसलिए HOME PAGE पर LOYOUT के नीचे NEXT PREVIOUS POST OPTION एड करें जिसे आपकी साईट पर आने वाले VESITORS को आपकी दुसरी POST पर जाने में सुविधा होगी. 

POPULAR POST WIDGET ADD:

आपके BLOG पर POPULAR AUR LATEST POSTS WIDGET ADD होना जरूरी है. जब कोई भी विजिटर्स आपकी साईट पर आयेगा और POST READ करेगा और जब Popular Widget add दिखाई देगा तो वो उस post पर जाना ज्यादा पसंद करेगा. 

Blog comments stail :

Visitors आपकी site पर आपसे कुछ सुझाव चाहते हों या कोई चीज़ उनको समझ में नहीं आ रही है इसके लिए अच्छा comment box add  करना चाहिए design भी सुंदर होना चाहिए जिससे विजिटर्स को ज्यादा पसंद आयेगा और दुसरों के कमेंट देखकर वो भी आपकी साइट पर कमेंट करना चाहेगा 

About author :

Blog पर about the author भी एड करें यह एड करने से visitoers आपके बारे में जानेगें और आप पर विश्वास भी बढेगा और उनको आप के बारे में पुरी जानकारी मिलेगी की आप कहां से हो और कौन हो.

Search Bar :

Blog पर सर्च बार box जरूर add करें जब कोई visitors आपकी साइट पर आता है. और उनको अपनी मनपसंद की जानकारी खोजना है तो वो search box से आसानी से खोज सकता है और direct post पर जा सकता है. 

Image /photos :

Blog post में Image का होना बहुत जरूरी होता है. एक Image बराबर 2000 words जितना काम करती है अगर आपने ब्लॉग post में अच्छी image लगाई है. तो आने वाले विजिटर्स को Image देखकर ही मालुम पड़ जाता है कि आपकी पोस्ट में क्या जानकारी बतायी गयी है या किस topic पर है.

BLOGGER Blog Ko Website Mai Kaise Badale/Design kare Top jankari In Hindi यह आपको पसंद आयी होगी post में बताई गई जानकारी में अगर आपको कोई problem आये या समझने में तकलीफ होती है तो आप नीचे comment box में अपना question पूछ सकते हो और हां अगर अगर मेरी post आपके लाभदायक है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जैसे Facebook whatsapp twitter google plus पर जरूर शेयर करें.

24.4.20

April 24, 2020

Facebook Page kaise Create-karen

आज का युग Internet का युग है. और हम सब किसी ना किसी तरीके से एंड्रायड फोन के साथ सब इंटरनेट से जुड़े हुवे है जितने भी इंटरनेट यूजर्स है वो  इन सब app का इस्तेमाल जरूर करतें हैं. जैसे Facebook whatsaap instagram tviter youtube और भी बहुत सारी ऐसी ऐप्स है जो हमारे दैनिक जीवन में बहुत लाभदायक होती हैं जिसे हम मनोरंजन के साथ साथ व्यापार bissness photo video यह सब एक जगह से दूसरी जगह पर भेजने के काम में लेते हैं. facebook का उपयोग तो हर internet यूजर्स करतें हैं लेकिन facebook page क्या होता है और यह कैसे बनाया जाता है वो सबको मालूम नहीं होता है इसलिए आज की मेरी post का titel भी यही है कि - Facebook Page kaise Create-karen

Facebook page create kaise karen

Facebook page बनाने के लिए आपके पास सबसे पहले फेसबुक पर अपना खुद का account होना जरूरी होता है. अगर आप new यूजर हो और अभी तक facebook पर अपना खाता नहीं है तो सबसे पहले अपनी gmail id से facebook पर लोग इन करके अपना एक account बना लीजिए अगर आपको अकाउंट बनाना नहीं आता है. तो आप youtube और google पर देख कर आसानी से facebook अकाउंट बना सकते हैं वो भी सिर्फ 5 मिनट में, अब में post topic पर आता हूं और आपको बिल्कुल सरल शब्दों में पूरी जानकारी हिंदी में देता हूं कि Facebook Page kaise Create-karen

Read more post
  • सबसे पहले अपने facebook account में log In कीजिए ।
  • Create page- login करने के बाद उपर left side menu के option पर click करें इसमें आपको page का ऑप्शन मिलेगा उस पर click करें उसके बाद create page पर click करें।
  • Get started- जब आप क्रिएट पेज पर click करेंगे तो एक page open होगा उसमें आपको Get started पर click करना है.
  • अपना page नाम इन्टर करें- Get start पर click करनें के बाद में जो page open होगा उसमें आपको अपने facebook page का जो भी नाम रखना चाहते है वो नाम इन्टर करना है page नाम लिखने के बाद Next पर click करना होगा।
  • Select any option- यहां पर आपको अपना page किसके लिए बनाना है उस पर टिक करना होगा।
  • Select category- अब आपको select category को select करने को कहा जायेगा नीचे जो भी आपके page से रिलेटेड category है उस पर टिक कर दीजिए और फिर Next पर click कर देना है।
  • अपनी website url inter करें- अगर आपके पास कोई Blog या website अपनी खुद की है तो उसकी url अपने page में जरूर डालें इसे आपके page पर जो भी यूजर आएंगे वो आपकी site पर भी जाएंगे जिसे आपकी trafic बढ़ने का चांस ज्यादा होगा। फिर भी आपके पास कोई भी यूआरएल नहीं है तो skip पर click कर दें।
  • Select frofile picture- यहां पर आपको अपनी एक अच्छी सी फ्रोफाइल picture aplod करनी है जो आपके page से रिलेटेड हो frofile add करने के बाद next button पर क्लिक कर दें।
  • Add a cover photo- अपने page के लिए एक cover photo जरूर लगाएं यह सब करने के बाद visit page पर click करना होगा।
Dhanewad: अब आपका facebook page बनकर तैयार हो गया facebook page का आपको बहुत फायदा होता है क्यों कि facebook पर हम 5000 से ज्यादा दोस्त नहीं बना सकते है और fb page से हम लाखों लोगों तक आसानी से पहुंच सकते हैं google भी facebook page को सबसे उपर रेंक देता है।
तो दोस्तों मैं आशा और उम्मीद करता हूं कि मेरी यह post Facebook Page kaise Create-karen आपको अपना खुद का facebook page बनाने में बहुत मदद करेगी फिर भी आप लोगों को इसमें कोई प्रॉब्लम होती हैं तो आप मुझे comment box में अपने सवाल पूंछ सकते हो मेरी पूरी कोशिश रहेगी कि में आपकी सहायता जरूर करूंगा। इसी आशा के साथ की आप सभी लोग मेरी इस post को facebook whatsapp tviter youtube पर share जरूर करेंगे।