Showing posts with label बारिश. Show all posts
Showing posts with label बारिश. Show all posts

11.6.21

June 11, 2021

गर्मी के मौसम में क्या क्या खाएं! क्या क्या ना खाएं!

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से स्वागत है आप सभी का मेरे ब्लॉग पर। भारत वो देश है जहां साल में बहुत प्रकार की ऋतुओं आती है जैसे सर्दी गर्मी बारिश और इन मौसम में हम लोगों को अपना अपने स्वास्थ्य का बहुत ध्यान रखना जरूरी होता है इसलिए आज आपके लिए मैं लेकर आया हू की गर्मी के मौसम में क्या क्या खाएं और क्या क्या नहीं खाएं इस post को आप अंत तक जरूर पढ़ें

 गर्मी से बचने के लिए इन आहारों का सेवन करें 

ऋतुओं के हिसाब से आहार में बदलाव और गर्मी से बचाव के उपायः बाहर गर्मी बहुत तेज हो रही है और सभी को अपने आहार में बदलाव कर देना चाहिए। मैं सामान्य कुछ चीजें बता रहा हूं जिसके प्रयोग से आप बाहर की 'लु' से बहुत ज्यादा प्रचंड गर्मी से बच सकते हैं।    

गर्मी के मौसम में लोगों को खान-पान में खास सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। क्योंकि इस मौसम में लोगों को डायरिया, कब्ज,अपच के साथ-साथ पेट से जुड़ी कई समस्याएं होती है। बता दें कि इस मौसम में तापमान में गर्मी होने के पाचनतंत्र धीरे काम करता है। इसलिए गर्मियों में ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने की सलाह दी जाती है जिनमे पानी, फाइबर, प्रोबायोटिक, एंटीऑक्सिडेंट्स, खनिज जैसे तत्व हो। 

  सबसे ज्यादा आप टमाटर का प्रयोग प्रारंभ कर दीजिए, इसके साथ प्याज है, लौकी है, खीरा है, आम है, कच्चा आम है, नारियल पानी है, तरबूज है, खरबूजा है इन सबको अपनी डाइट में ले आइए। जिनमें पानी की मात्रा बहुत ज्यादा होती होती है, जो लिक्विड फॉर्म में होते हैं जैसे टमाटर, 'लु' से बचाता है।


      जितने भी प्रकार की स्किन डिसीज होती है, जो गर्मी में खासतौर पर घमौरियां निकल जाना, पिंपल्स निकल जाना, चेहरे में झाइयां आ जाना उन सब को दूर कर देता है। आप टमाटर को काटकर उसे अपने चेहरे पर रगड़ सकते। पैरो के तलवों में रगड़ सकते हैं जिससे कि जलन पैदा ना हो।


       सेम कंडीशन 'खीरे' पर लागू होती हैं। खीरे को भी आप जूस के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। आप स्किन पर लगा सकते हैं और स्किन को चमकदार रख सकते हैं। 'लौकी' तो अद्भुत है। आयुर्वेद में लौकी को जितना उपयोगी बताया गया है, उतना इस समय गर्मियों में कोई भी नहीं है। 'प्याज' भी उसके बराबर महत्व रखता है किंतु 'लौकी' उससे भी ज्यादा महत्व है। इसलिए आप लौकी का नियमित रूप से सेवन करिए। 


 यदि शरीर में जलन पैदा हो रही है तो आप जलन को रोकने के लिए लौकी को काटकर अपने पैर के तलवों में लगा सकते हैं, जिससे कि आपको जलन नहीं हो। चेहरे पर आप उसे लगा सकते हैं। पैरों में रगड़ने के साथ में चेहरे पर भी उसका मास्क लगाकर या फिर उसका लेप लगाकर आप अच्छे से यदि लौकी को लगाकर रखते हैं तो शरीर में झाइयां पैदा नहीं होती, चेहरे पर चमक बनी हुई रहती है।

  आप बाजार में उपलब्ध 'बेल का जूस' पी सकते हैं। बल्कि बेल की गिरो को भी खा सकते हैं। इनका प्रयोग करने से आपको 'डाइजेस्ट' से संबंध समस्या नहीं होगी। यदि डाइजेशन से संबंध समस्या नहीं पैदा हो रही है। जिससें कि आपके शरीर जितने भी तत्व  है, वह आपके शरीर से बाहर नहीं निकलेंगे आपको डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होगी और आप स्वस्थ रहेंगे। अन्यथा आपको कमजोरी महसूस होने लग जाएगी, बहुत ज्यादा नींद आने लग जाएगी, आलस्य प्रमाद जैसी समस्या पैदा हो जाती है।

 

 कच्चे आम का पन्ना बनाइए। कच्चे आम का पन्ना जरूर पिए इस समय  जो कि आपके कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम के लिए बहुत ही उपयोगी होता है और बाहर के गर्मी से तो हमें बचाता ही है। आप उसे टेस्टी बना सकते हैं, उसमें पुदीना मिला सकते हैं, आप उसमें नींबू मिला सकते हैं जिससे कि उसका स्वाद और ज्यादा बढ़ जाता है।


नारियल पानी आप जरूर पीजिए, इस समय यदि आप नारियल पानी अगर पीते हैं तो आपके स्किन में ग्लो आ जाता है और आपके शरीर में डिहाइड्रेशन की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाती है।

  

 तरबूज और खरबूजे का भरपूर सेवन करें। आप तरबूज यदि नहीं खा पा रहे हैं इस समय तो आप सोचिए कि आप ने धरती पर भगवान का बनाया हुआ एक अमूल्य फल खो दिया है, जिसका आप स्वाद नहीं चख पा रहे हैं। इसलिए तरबूज और खरबूजे का जो मीठा स्वाद है आप उसे जरूर सेवन करें। आप उसका नियमित रूप से उपयोग करते हैं तो आपके शरीर में किसी भी प्रकार की गर्मी का निजात तत्व पैदा नहीं होगा। आपको किसी भी प्रकार के रोग पैदा नहीं होंगे।

पेट से जुड़ी इन परेशानियों का समय पर इलाज न हो तो मुश्किलें और बढ़ जाती हैं। वहीं खान-पान और कुछ चीजों का खास ख्याल रखें तो आप बिना दवा के इन परेशानियों को एक दिन में ठीक कर सकते हैं।

डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पिएं ओआरएस का घोल

उल्टी या फिर दस्त होने की वजह से शरीर में पानी की कमी हो सकती है। ऐसी स्थिति में सबसे पहले ओआरएस का घोल पिएं। यह हर मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध है, जहां आप आसानी से खरीद सकते हैं।

ओआरएस का घोल आप चाहे तो घर पर भी तैयार कर सकते हैं। इसके लिए नमक और थोड़ा चिनी का इस्तेमाल कर तैयार कर सकते हैं। यह शरीर में  इलेक्ट्रोलाइट्स के स्तर को बनाए रखते हैं, जिससे शरीर में डिहाइड्रेशन नहीं होता।

इन आहार का करें सेवन

डायरिया या फिर पेट से जुड़ी समस्याएं होने लगे तो अपने डायट में तुरंत बदलाव करें। इसके साथ कुछ ऐसे आहार का सवन करें, जिससे पेट की गड़बड़ी ठीक हो जाए। वहीं डायरिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए इन आहारों का सेवन करें।

चावल- डायरिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए सफेद चावल का सेवन करना चाहिए। चावल में कार्बोहाइड्रेट अधिक होता है और प्रोटीन कम, ऐसे में इसे पचाना आसान है।

केला- दस्त को कंट्रोल करने के लिए केले का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। इसके साथ ही यह पेट के लिए अच्छा होता है।

आलू- उबले हुए आलू का सेवन करें, इसमें कार्ब्स अच्छी मात्रा में पायी जाती है।

फल- फल में अंगूर, अनार, लीची, संतरा, मौसमी, नींबू आदि जैसी चीजों का सेवन करें।

प्रोबायोटिक्स फूड्स- दस्त, डायरिया या फिर गैस जैसी समस्या से बचने के लिए प्रोबायोटिक्स फूड्स का सेवन करें। दही, छाछ आदि जैसी प्रोबायोटिक्स फूड्स में बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जो पाचन को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करते हैं। यह आपकी आंतों में जाकर हेल्दी बैक्टीरिया को बढ़ाने में काम करते हैं, जिससे पेट से जुड़ी समस्या से आराम मिल जाता है।

: गुड़ और नींबू से बने इस हेल्दी ड्रिंक से करें वजन कम, जानें इसके फायदे और बनाने का तरीका

अगर आपको भी है तकिया लगाकर सोने की आदत, तो जान लें इसके फायदे और नुकसान

इन बातों का रखें खास ख्याल

डायरिया, गैस, अपच इत्यादी समस्याओं में दूध की चाय, घी, बटर, तेल जैसी चीजों का सेवन न करें।

पेट से जुड़ी परेशानियों को ठीक करने के लिए जितना हो सकें उतना आराम करें। 

ऐसी स्थिति में शराब, सिगरेट जैसी चीजों से दूरी बनाकर रखें।पेट में दर्द, बार-बार उल्टी या फिर दस्त होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

मुझे पूरा विश्वास है कि आपको मेरी पोस्ट बहुत पसंद आई होगी और इसे आपको फायदा जरूर होगा आप पोस्ट को शेयर जरूर करें