1.4.20

महान वैज्ञानक आर्यभट्ट और चंद्रशेखर वेंकटरमण का जन्म कब- कहां हुआ

महान वैज्ञानक आर्यभट्ट और चंद्रशेखर वेंकटरमण का जन्म कब- कहां हुआ 
आर्यभट्ट- इनका जन्म ईसवी सन् 476 में कुसुमपुर बिहार में हुआ था गणित में त्रिकोणमिति के आविष्कारक; पाई  ( π ) के प्रथम प्रयोगकरता महान भारतीय वैज्ञानिक आर्यभट्ट ही थे। आर्यभट्ट ने ही सबसे पहले यह सिद्य किया कि धरती गोल है और अपनी धुरी पर घूमती हुई सूर्य की परिक्रमा करती हैं। सूर्य ग्रहण व चांद ग्रहण, चन्द्रमा अथवा धरती की छाया के परिणाम है। वृत की परिधि और व्यास के अनुपात के रूप में गणितीय मान 22/7 निकालकर उसका प्रयोग किया। कालांतर में उसका नाम पाई π दे दिया गया।

भारतीय वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकटरमण- का जन्म 7 नवम्बर सन् 1888  में तमिलनाडु के तिरूूूूू चिरापल्ली में हुआ था। भौतिक विज्ञान में नोबल पुरस्कार प्राप्त करने वाले के प्रथम वैज्ञानिक "  विभिन्न पदार्थों द्वारा फैलाए गए प्रकाश के वर्णन पट में नई रंग होते हैं, जो मूल प्रकाश में नहीं होते।" यह खोज भौतिकी में रमन प्रभाव नाम से विख्यात है।

इन दोनों महान भारतीय वैज्ञानिको  भारत में ही नहीं पूरे विश्व में अपना नाम रोशन किया और साथ में भारत की पूरी दुनिया में पहचान बनाई ऐसे महान योद्धा से हमें बहुत कुछसीखने को मिलता है और आज पूरी दुनियां इनको याद करती हैं मुझे आशा है कि आपको मेरी यह पोस्ट- महान वैज्ञानक आर्यभट्ट और चंद्रशेखर वेंकटरमण का जन्म कब- कहां हुआ अच्छी लगी होगी अगर अच्छी लगी हो तो आप इस post को अपने socil account पर share जरूर करें।

No comments:

Post a Comment